विशेष संवाददाता, नई दिल्ली
दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने बीजेपी विधायक विजेंद्र गुप्ता के खिलाफ क्रिमिनल और सिविल मानहानि मुकदमा दायर किया है। परिवहन मंत्री ने मुकदमा दायर कर कहा कि लो फ्लोर बसों की खरीद मामले में बीजेपी विधायक द्वारा आधारहीन आरोप लगाए गए हैं और इसके चलते विजेंद्र गुप्ता के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर किया है। साथ ही उनके खिलाफ आपराधिक शिकायत दर्ज कराई गई है। परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने विजेंद्र गुप्ता के खिलाफ दीवानी मानहानि के मुकदमे में 5 करोड़ रुपये की क्षतिपूर्ति और आपराधिक मानहानि के मुकदमे में धारा 499, 501 के तहत कार्रवाई की मांग की है।

डोर स्टेप डिलिवरी वाले 1076 नंबर को टोल फ्री में बदलेगी सरकार
परिवहन मंत्री ने इसके साथ ही बीजेपी विधायक द्वारा ट्विटर और फेसबुक पर उनके खिलाफ पोस्ट की गई सभी विवादास्पद सामग्री को हटाने की भी मांग की है। उन्होंने हाईकोर्ट से विजेंद्र गुप्ता के साथ-साथ ट्विटर और फेसबुक को इस तरह के सभी कंटेंट अपने प्लैटफॉर्म से हटाने का निर्देश देने का अनुरोध किया है। परिवहन मंत्री ने यह मुकदमा दायर कर कहा है कि बीजेपी विधायक ने सोशल मीडिया पर मानहानि सामग्री प्रसारित की, जिसमें 1000 लो फ्लोर बसों की खरीद के साथ-साथ लो फ्लोर बसों के रखरखाव के लिए भ्रष्टाचार और घोटाले का आरोप लगाया गया था। सिविल मानहानि मुकदमे में कहा गया है कि बिना किसी तथ्य की पुष्टि किए बिना विजेंद्र गुप्ता द्वारा जानबूझकर राजनीतिक लाभ और द्वेष की भावना से परिवहन मंत्री के खिलाफ आधारहीन आरोप लगाए गए हैं।

दिल्ली सरकार के परिवहन विभाग ने 2017 से अब तक लगभग 1500 नई बसों को बेड़े में शामिल किया है। कहा गया है कि बीजेपी विधायक अपने राजनीतिक फायदे के लिए और परिवहन मंत्री की प्रतिष्ठा को धूमिल करने के लिए सोची-समझी मंशा और दुर्भावना से लापरवाह पूर्ण, गैरजिम्मेदार और झूठे आरोप लगाते रहे हैं। सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म का इस्तेमाल कर बेबुनियाद टिप्पणी की है और गैर-जिम्मेदाराना तरीके से परिवहन मंत्री के खिलाफ टिप्पणी की है। सिविल मानहानि के मुकदमे में कहा गया है कि बीजेपी विधायक ने जुलाई 2021 में दिल्ली विधानसभा में एक स्टार प्रश्न उठाया था और बसों की खरीद और रखरखाव पर प्रतिक्रिया और स्पष्टीकरण मांगा था। जवाब में सभी प्रश्नों के उत्तर दिए गए थे। बीजेपी विधायक ने मामले के सभी तथ्यों से अवगत होने के बावजूद सोशल मीडिया पर गलत मंशा से झूठी दलीलें प्रसारित कीं। कहा गया है कि एलजी द्वारा बसों की खरीद मामले में गठित जांच कमिटी ने इस मामले में क्लीन चिट दी थी।

पीएम मोदी के निशाने पर 15 लोग, CBI,ED और दिल्ली पुलिस को सौंपी लिस्ट; मनीष सिसोदिया ने लगाया आरोप
अपनी इमेज बचाने की कोशिश कर रहे हैं गहलोत: गुप्ता
डीटीसी बस खरीद मामले में लगाए गए आरोपों को लेकर दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत द्वारा बीजेपी विधायक विजेंद्र गुप्ता के खिलाफ दर्ज किए गए मानहानि के मुकदमे को गुप्ता ने सचाई की आवाज को दबाने की कोशिश करार दिया है। विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि दिल्ली के परिवहन मंत्री अब अपनी इमेज बचाने की कोशिश कर रहे हैं। उनका आरोप है कि एलजी की कमिटी ने अपनी रिपोर्ट में माना है कि 1000 लो फ्लोर बसों के मेंटिनेंस के कॉन्ट्रैक्ट में भारी गड़बड़ियां हैं और नियमों का उल्लंघन किया गया है। उसी को देखते हुए इस मामले की जांच अब सीबीआई को सौंप दी गई है और अब वह विपक्ष की आवाज को दबाने के लिए कोशिश कर रहे हैं। गुप्ता ने कहा कि वह जल्द ही दिल्ली के उप-राज्यपाल अनिल बैजल से मिलकर उनसे परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत को डीटीसी के चेयरमैन पद से हटाने की मांग करेंगे, ताकि वह किसी भी तरह से सीबीआई की जांच को प्रभावित न कर सकें। गुप्ता ने कहा कि वह इस तरह की धमकियों से डरने वाले नहीं हैं।

Source link

Bulandaawaj
Author: Bulandaawaj

Leave a Reply

Your email address will not be published.