डिजिटल डेस्क, मुंबई। महाराष्ट्र में महा विकास अघाड़ी (एमवीए) गठबंधन सरकार में दरार बढ़ती दिखाई दे रही है। शिवसेना विधायक प्रताप सरनाइक भाजपा के साथ हाथ मिलाने को लेकर सीएम उद्धव ठाकरे को लिखी चिट्ठी के बाद राज्य बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिक का बयान आया है। पाटिल ने कहा अगर मुख्यमंत्री ठाकरे ने इस पर विचार किया तो पार्टी नेतृत्व इस पर विचार करेगा।

पाटिल ने कहा कि अगर भाजपा गठबंधन को लेकर कुछ भी पॉजिटिव बात कहती तो सामना में उसका उपहास उड़ाया जाता है। सामना में लिखा जाता है कि हम सत्ता के लिए बेताब हैं। पाटिल ने यह भी कहा कि सरनाइक ने वही कहा जो भाजपा 18 महीने से कह रही थी। यह एक अवैज्ञानिक गठबंधन (शिवसेना, कांग्रेस और राकांपा) है। बालासाहेब ठाकरे ने जीवन भर कांग्रेस और राकांपा से लड़ाई लड़ी और अब शिवसेना ने उन्हीं पार्टियों के साथ गठबंधन किया है।

क्या कहा था सरनाइक ने?
बता दें कि शिवसेना विधायक प्रताप सरनाइक ने रविवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को चिट्‌ठी लिखकर भाजपा नीत NDA गठबंधन में शामिल होने का अनुरोध किया था। सरनाइक ने कहा कि राज्य सरकार की प्रमुख सहयोगी पार्टियां एनसीपी और कांग्रेस शिवसेना में दरार पैदा कर रही हैं, ऐसे में अच्छा होगा कि हम फिर से एक बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ आ जाएं।

प्रताप सरनाइक ने कहा, एनसीपी और कांग्रेस के नेता महाराष्ट्र में अपना मुख्यमंत्री चाहते हैं। कांग्रेस अकेले चुनाव लड़ना चाहती है। इतना ही नहीं एनसीपी के नेता तो शिवसेना में सेंध लगाने में लगे हैं। वह पार्टी को तोड़ना चाहते हैं। हो सकता है उन्हें इसके लिए केंद्र सरकार का भी साथ मिल रहा हो।
सरनाइक ने कहा, हमें आपके नेतृत्व पर पूरा विश्वास है, लेकिन कांग्रेस और एनसीपी हमारी पार्टी को कमजोर करने की कोशिश कर रही हैं। 

मोदी के साथ फिर से हाथ मिलाना बेहतर
सरनाइक ने कहा, प्रधानमंत्री मोदी के साथ फिर से हाथ मिलाना बेहतर है क्योंकि शिवसैनिकों को लगता है कि यह मेरे, अनिल परब और रवींद्र वायकर जैसे नेताओं को केंद्रीय एजेंसियों की ओर से पैदा की गई समस्याओं से बचाएगा। बता दें कि पिछले साल, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने एक सिक्योरिटी सर्विस प्रोवाइडर कंपनी और अन्य के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग मामले की जांच के सिलसिले में महाराष्ट्र में सरनाइक से जुड़े परिसरों पर छापा मारा था।

भाजपा के नेताओं से अच्छे संबंध
ठाणे शहर से विधायक सरनाइक ने आगे कहा, भले ही भाजपा के साथ गठबंधन टूट गया हो, लेकिन उनके नेताओं के अभी भी अच्छे संबंध हैं। उन्होंने कहा, मेरा मानना ​​​​है कि अभिमन्यु या कर्ण की तरह बलिदान के बजाय अर्जुन की तरह युद्ध लड़ने में विश्वास रखता हूं। यही कारण है कि मैं पिछले सात महीनों से अपने नेताओं या सरकार से कोई मदद प्राप्त किए बिना अकेले अपनी कानूनी लड़ाई लड़ रहा हूं।

कांग्रेस ने अकेले चुनाव लड़ने की बात कही थी
बीते दिनों महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा था कि उनकी पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव अकेले लड़ेगी। पटोले ने कहा, ‘मैं कांग्रेस का राज्य प्रमुख हूं। इसलिए, मैं अपनी पार्टी की बात बताऊंगा। मुझे नहीं पता कि उन्होंने (शरद पवार) क्या कहा लेकिन कांग्रेस ने यह बहुत स्पष्ट कर दिया है हम सभी स्थानीय निकाय चुनाव और विधानसभा चुनाव अकेले लड़ेंगे। क्या आप नाना पटोले को मुख्यमंत्री बनते नहीं देखना चाहते हैं?’ 

संजय राउत ने कांग्रेस पर हमला बोला
शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा, ‘कल शिवसेना का 55वां स्थापना दिवस था। CM ने बताया कि आने वाले दिनों में पार्टी की क्या भूमिका रहेगी। उन्होंने ये भी बताया कि महाराष्ट्र में जो अकेले चुनाव लड़ने की बात कर रहें, अगर वो ऐसा करेंगे तो हम क्या ऐसे ही बैठे रहेंगे? जिसे लड़ना है वो लड़े। शिवसेना ने राजनीतिक लड़ाई अपने ताकत पर लड़ी है। चाहे चुनाव में गठबंधन हो या न हो, लेकिन लड़ाई अपने ताकत पर ही लड़ी जाती है।’

Source link

Bulandaawaj
Author: Bulandaawaj

Leave a Reply

Your email address will not be published.