विशेष संवाददाता, नई दिल्ली
बीजेपी की केंद्र सरकार द्वारा सोमवार को संसद में जीएनसीटी दिल्ली-1991 एक्ट में संशोधन करने के मामले पर प्रदेश कांग्रेस ने कड़ी आपत्ति जताई है।

कांग्रेस का कहना है कि बीजेपी की केंद्र सरकार ने दिल्ली की चुनी हुई सरकार के जनता के प्रति जवाबदेही के सभी अधिकारों को उपराज्यपाल की शक्तियों में समाहित करके लोकतंत्र की हत्या करने का काम किया है। कांग्रेस इसका विरोध करती है। कांग्रेस का कहना है कि जीएनसीटी दिल्ली-2021 संशोधन बिल के तहत दिल्ली में चुनी हुई सरकार की अधिकतर शक्तियों को उपराज्यपाल के अधीन कर दिया गया है। दिल्ली के इतिहास में आज की तारीख काले अक्षरों में लिखी जाएगी।

Delhi News: क्या है दिल्ली में LG की शक्तियां बढ़ाने वाला बिल, क्यों मचा है इसपर बवाल, जानिए सबकुछ
पूर्व विधायक और पूर्व संसदीय सचिव अनिल भारद्वाज ने कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ता दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र संशोधित एक्ट 2021 के विरोध में बुधवार को जंतर मंतर पर धरना देगी। कांग्रेस मांग करती है कि संशोधित एक्ट को तुरंत प्रभाव से वापस लिया जाए। उन्होंने कहा कांग्रेस पार्टी लोकतांत्रिक तरीके से बीजेपी द्वारा पारित जीएनसीटी दिल्ली 2021 संशोधित एक्ट का हर स्तर पर विरोध करेगी क्योंकि कांग्रेस जनता अधिकारों के लिए प्रतिबद्ध है।

NCT Bill 2021 : सुप्रीम आदेश में हुआ था तय- एलजी नहीं हैं दिल्ली के ‘असली बॉस’
अनिल ने राहुल गांधी का हवाला देते हुए कहा कि राहुल गांधी के कथन में सचाई है कि बीजेपी जनता के कल्याण की बजाय उद्योगपतियों के हित के लिए और संसदीय पटल पर नागरिक विरोधी कानून बनाकर मनमर्जी के फैसले ले रही है। उन्होंने आगे कहा कि दिल्ली के मुख्मंत्री केजरीवाल और उनकी पार्टी इसका विरोध नहीं बल्कि उनके साथ मिलकर काम कर रही है। भारद्वाज ने कहा कि केजरीवाल दिल्ली के जनता के प्रति पूरी तरह से असंवेदशील है।

Source link

Bulandaawaj
Author: Bulandaawaj

Leave a Reply

Your email address will not be published.