डिजिटल डेस्क, कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के पैर में चोट लग गई है। ममता बनर्जी ने इस बार नंदीग्राम विधानसभा सीट से चुनाव लड़ना का ऐलान किया है और बुधवार को यहां से नामांकन दाखिल किया। इसी दौरान उन्हें ये चोट लगी है। ममता बनर्जी ने इसे साजिश करार देते हुए इसकी शिकायत चुनाव आयोग से करेने की बात कही है। ममता बनर्जी ने कहा कि उनके पैर पर जानबूझकर गाड़ी चढ़ा दी गई। अब उन्हें ग्रीन कॉरिडोर बनाकर कोलकाता के एसएसकेएम अस्पताल लाया गया है।

ममता को स्ट्रेचर के जरिए हॉस्पिटल के अंदर ले जाया गया। एसएसकेएम हॉस्पिटल के अंदर 6 डॉक्टरों का बोर्ड उनका इलाज कर रहा है। इस बीच राज्यपाल जगदीप धनखड़ भी ममता का हाल-चाल जानने के लिए एसएसकेएम हॉस्पिटल गए। हॉस्पिटल के बाहर टीएमसी नेताओं का जमावड़ा लगा हुआ है।

चुनाव आयोग ने ममता बनर्जी के घायल होने पर विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। बनर्जी ने आरोप लगाया है कि जिस वक्त वह नंदीग्राम में थी उस वक्त कुछ लोगों ने धक्का-मुक्की की, जिसकी वजह से उनके पैर में चोट आई है। ममता बनर्जी ने कहा कि जिस वक्त उनके साथ धक्का-मुक्की हुई उस समय 4-5 लोगों ने जानबूझकर उनके साथ ऐसा किया। उस समय कोई भी पुलिस के अधिकारी मौजूद नहीं थे और ना ही कोई स्थानीय पुलिस थी। उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से यह एक साजिश है। क्योंकि इतनी बड़ी लोगों की सभा में चार-पांच घंटे तक कोई पुलिस अधिकारी नहीं था।

ममता पर हुए हमले को बीजेपी नेता और पार्टी के बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि यह सब कुछ ममता की सहानुभूति पाने की कोशिश है क्योंकि उनकी बंगाल से जमीन खिसक गई है। वह नाटक कर रही हैं। उन पर हमले की बात कोई सोच नहीं सकता। 200-300 पुलिसकर्मियों के होते हुए उन पर हमला कैसे हो गया। विजयवर्गीय ने यह भी कहा कि अगर ममता पर हमला हुआ है तो चुनाव आयोग इस प्रकरण पर सीबीआई से जांच कराए।

इससे पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आज बुधवार को नंदीग्राम से अपना नामांकन दाखिल कर दिया। नामांकन से पहले ममता शिव मंदिर में पूजा करने के लिए पहुंचीं। फिर उन्होंने हल्दिया में पदयात्रा निकालकर पर्चा भरा।

बता दें कि पश्चिम बंगाल में आठ चरणों में विधानसभा का चुनाव होने जा रहा है। 27 मार्च को राज्य में वोटिंग की शुरुआत होगी जबकि नंदीग्राम में 1 अप्रैल को मतदान होगा। ममता बनर्जी के नंदीग्राम विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने के ऐलान के बाद यह सीट राज्य की सबसे हॉट सीट बन गई है। भारतीय जनता पार्टी ने यहां पर शुभेंदु अधिकारी को चुनाव मैदान में उतारा है। शुभेंदु अधिकारी कभी ममता बनर्जी के सबसे करीबी माने जाते थे और अब वह बीजेपी में शामिल होने के बाद ममता को  चुनौती दे रहे हैं।

पश्चिम बंगाल में कुल 294 विधानसभा की सीटें है। यहां पर सरकार बनाने के लिए 147 सीट की जरूरत है। पिछली बार 2016 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को महज 3 सीट आई थी जबकि तृणमूल कांग्रेस ने 211 सीट पर जीत दर्ज की थी। लेकिन 2019 लोकसभा में 18 सीट जीतने के बाद बीजेपी राज्य में अपने लिए अवसर देख रही है।

Source link

Bulandaawaj
Author: Bulandaawaj

Leave a Reply

Your email address will not be published.