विशेष संवाददाता, नई दिल्ली
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील की है कि इस साल भारत रत्न सम्मान भारतीय डॉक्टर को देना चाहिए। उन्होंने कहा, भारतीय डॉक्टर का मतलब सभी डॉक्टर, नर्स और पैरामेडिक स्टाफ से है, शहीद हुए डॉक्टर्स को यह सच्ची श्रद्धांजलि होगी। अपनी जान और परिवार की चिंता किए बिना सेवा करने वालों का यह सम्मान होगा और पूरा देश इससे खुश होगा। स्टेपवन की तरफ से आयोजित ‘डॉक्टर्स डे’ समारोह में बतौर चीफ गेस्ट शामिल हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने यह कहा।

मुख्यमंत्री रविवार को स्टेपवन के ‘डॉक्टर्स डे’ समारोह में शामिल हुए। विडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए इस प्रोग्राम में देश के अलग-अलग राज्यों से स्टेप वन से जुड़े 200 से ज्यादा डॉक्टर और वॉलंटियर्स ने हिस्सा लिया। सीएम ने पूरी टीम को बधाई देते हुए कहा कि स्टेप वन की पूरी टीम ने पिछले डेढ़ साल में कोविड-19 के दौरान पूरे देश में बढ़-चढ़कर लोगों की सेवा की है।

दिल्‍ली में पानी के लिए कतारें: मनोज तिवारी ने लगाई पंचायत, गंभीर का तंज- आज तुगलक को नाज होगा!
‘डॉक्टर्स ने जान की बाजी लगाकर शिद्दत से की लोगों की सेवा’
सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जिस तरह से मेडिकल समुदाय ने आगे बढ़कर इस कोरोना काल में देश की सेवा की है, पूरा देश बहुत-बहुत आभारी है। मैं व्यक्तिगत रूप से बहुत सारे ऐसे डॉक्टर को जानता हूं, जो कई-कई महीनों तक अपने घर नहीं गए। उन्होंने अपने परिवार की परवाह किए बिना, अपनी जान की बाजी लगाकर लोगों की सेवा की। इसके बदले में उनको कोई अतिरिक्त पैसा और पद नहीं मिला। फिर भी पूरी शिद्दत के साथ डॉक्टर्स ने लोगों की सेवा की। ऐसे सभी डॉक्टर, नर्स और स्टाफ को हम सलाम करते हैं।

सीएम ने कहा, लोग डॉक्टर्स को भगवान की तरह पूजते हैं लेकिन इसके बावजूद ऐसे भी कई मौके आए, जब कुछ लोगों ने डॉक्टर के साथ गलत व्यवहार किया। देश में कई ऐसे मौके देखने को मिले। हालांकि, 90-95% मामलों में डॉक्टर्स मरीज की स्थिति और उसकी मानसिकता को समझते हुए बहुत कुछ बर्दाश्त करते हैं। लेकिन जब चीजें बर्दाश्त से बाहर हो जाती है, तो उन्हें कभी-कभी विरोध भी करना पड़ता है। इन कठिन परिस्थितियों के दौरान कई सारे डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ को हम लोगों ने खोया भी है। मैं उन सब लोगों को श्रद्धांजलि देता है।

Free Electricity in Punjab: पंजाब चुनाव से पहले केजरीवाल का ऐलान, AAP जीती तो सबको मुफ्त बिजली देंगे
पीएम को लिखा पत्र, बदला जाए नियम
सीएम ने कहा, मैं भारत सरकार से निवेदन करना चाहूंगा कि इस साल का ‘भारत रत्न’ एक भारतीय डॉक्टर को मिलना चाहिए। भारतीय डॉक्टर से मेरा मतलब व्यक्ति विशेष से नहीं है, भारतीय डॉक्टर से मेरा मतलब सारे डॉक्टर, नर्स और पैरामेडिक से है। यह शहीद हुए डॉक्टर्स को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। अपनी इस मांग को लेकर सीएम अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है। सीएम ने पत्र में लिखा है, देश चाहता है कि इस वर्ष ‘भारत रत्न’ का सम्मान ‘भारतीय डॉक्टर’ को दिया जाए। उन्होंने पत्र में कहा है, अगर नियम किसी समूह को भारत रत्न देने की इजाजत नहीं देते, तो मेरा आपसे आग्रह है कि नियमों को बदला जाए।

दिल्ली वासियों को अगले मार्च तक मिल जाएगा डिजिटल हेल्थ कार्ड
‘कोरोना की तीसरी लहर के मद्देनजर सरकार कर रही है तैयारियां’
सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि स्टेप वन से कोविड के दौरान हमें प्रतिदिन की काउंसलिंग में बहुत मदद दी। हमारे कोविड सेंटर में जहां भी जब डॉक्टर नहीं होते थे, तो हम स्टेप वन की मदद लेते थे। सीएम ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर आने की संभावना है और दिल्ली सरकार ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। स्टेप वन और दिल्ली सरकार के बीच यह रिश्ता आगे भी बना रहेगा। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि दिल्ली में जो भी डॉक्टर या फ्रंटलाइन वर्कर्स कोरोना के दौरान शहीद हुए, दिल्ली सरकार ने उनके परिवार को एक-एक करोड़ रुपए की सम्मान राशि दी। यह कोई मुआवजा नहीं है, यह धन्यवाद बोलने का एक तरीका है कि हम आपके साथ खड़े हैं और हम आपके प्रति कृतज्ञ हैं। इसके अलावा, कोरोना काल के दौरान बहुत सारे ऐसे डॉक्टर थे, जो अपने घर नहीं जा सकते थे। उस वक्त हमने उनके रहने के लिए बहुत अच्छी सुविधाओं की व्यवस्था की।

Arvind Kejriwal

अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)

Source link

Bulandaawaj
Author: Bulandaawaj

Leave a Reply

Your email address will not be published.