डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर (Jammu- Kashmir) में धारा 370 हटने और केन्द्र शासित प्रदेश बनने के बाद आज (24 जून, गुरुवार) एक बड़ी बैठक होने जा रही है। इस बैठक के पहले से ही चर्चाओं का बाजार गर्म है। सूत्रों के अनुसार, केंद्र की मोदी सरकार भारत प्रशासित जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव कराने को लेकर तैयारी शुरू करने जा रही है। हालांकि सरकार ने इस बारे में अब तक आई खबरों की पुष्टि नहीं की है। जानकारी के लिए बता दें कि एक एक महा बैठक होगी, जिसमें  शामिल होने के लिए चार पूर्व मुख्यमंत्रियों सहित 14 नेताओं को न्योता भेजा गया था। इनमें से अधिकांश नेता बुधवार शाम तक दिल्ली पहुंच गए।

सर्वदलीय बैठक गुरुवार दोपहर 3 बजे शुरू होगी, जिसकी अगुवाई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। इस बैठक में जम्मू-कश्मीर के राजनीतिक भविष्य को लेकर चर्चा की जाएगी। इस बैठक से पहले सुबह 11 बजे जम्मू-कश्मीर कांग्रेस के नेताओं की चर्चा होगी। 

धारा 370 हटने के बाद क्या क्या बदला, क्यों जरूरी है मोदी की बैठक?

48 घंटे के लिए अलर्ट
आपको बता दें कि, इस बैठक के आयोजन की खबरें आने के बाद से ही यहां हलचल शुरू हो गई है। पाकिस्तान भी इस बात को लेकर डरा हुआ है। वहीं राज्य में 48 घंटे के लिए अलर्ट जारी कर दिया गया है। यही नहीं यहां लाइन ऑफ कंट्रोल पर भी नज़र पैनी कर दी गई है।

ये नेता होंगे शामिल 
इाज आयोजित होने जा रही इस सर्वदलीय बैठक में कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद, नेशनल कांफ्रेंस के फारुख अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला, गुलाम अहमद मीर, ताराचंद, पीडीपी की महबूबा मुफ्ती, बीजेपी के निर्मल सिंह, कविन्द्र गुप्ता और रविन्द्र रैना, पीपुल कांफ्रेंस के मुजफ्फर बेग और सज्जाद लोन, पैंथर्स पार्टी के भीम सिंह, सीपीआईएम के एमवाई तारीगामी और जेके अपनी पार्टी के अल्ताफ बुखारी शामिल होंगे। 

J&K के शोपियां जिले में एनकाउंटर में मारा गया हिजबुल मुजाहिदीन का आतंकवादी 

सरकार की ओर से ये नेता होंगे शामिल
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, जम्मू कश्मीर के एलजी मनोज सिन्हा, एनएसए अजित डोवाल, पीएम के प्रिंसिपल सेक्रेटरी पीके मिश्रा, गृहसचिव अजय भल्ला, अन्य उच्च अधिकारी

Source link

Bulandaawaj
Author: Bulandaawaj

Leave a Reply

Your email address will not be published.