डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कांग्रेस के दस विधायकों ने पार्टी आलाकमान से पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को निराश नहीं करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा अमरिंदर सिंह अभी भी जनता और राज्य के बीच सबसे बड़े नेता हैं। विधायकों ने कहा कि यह केवल अमरिंदर सिंह के कारण था कि 1984 में दरबार साहिब पर हमले और दिल्ली और देश में अन्य जगहों पर सिखों के नरसंहार के बाद कांग्रेस ने पंजाब में सत्ता हासिल की।

नेताओं ने एक आधिकारिक बयान में कहा, ‘कैप्टन अमरिंदर सिंह को निराश मत करो, जिनके अथक प्रयासों के कारण पार्टी पंजाब में अच्छी तरह से खड़ी है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि राज्य पीपीसीसी प्रमुख की नियुक्ति पार्टी आलाकमान का विशेषाधिकार था, लेकिन इस मामले के सार्वजनिक होने से पिछले कुछ महीनों के दौरान केवल पार्टी का ग्राफ कम हुआ है। उन्होंने कहा कि अमरिंदर सिंह ने राज्य में समाज के विभिन्न वर्गों, विशेष रूप से उन किसानों के बीच अपार सम्मान प्राप्त किया, जिनके लिए ‘उन्होंने 2004 के टर्मिनेशन ऑफ वॉटर्स अग्रीमेंट एक्ट को पारित करते हुए मुख्यमंत्री के रूप में अपनी कुर्सी को खतरे में डाल दिया था।’

10 विधायक हरमिंदर सिंह गिल, फतेह बाजवा, गुरप्रीत सिंह जीपी, कुलदीप सिंह वैद, बलविंदर सिंह लड्डी, संतोख सिंह भलाईपुर, जोगिंदरपाल, जगदेव सिंह कमलू, पीरमल सिंह खालसा और सुखपाल सिंह खैरा हैं।

उधर, नवजोत सिंह सिद्धू ने रविवार सुबह घन्नौर से पार्टी विधायक मदनलाल जलालपुर से उनके आवास पर मुलाकात की। इस दौरान कैबिनेट मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा और छह अन्य विधायक भी मौजूद रहे। यहां उनका गर्मजोशी से स्वागत किया गया। कैबिनेट मंत्री चरनजीत सिंह चन्नी, तृप्त राजिंदरा बाजवा, सुखजिंदर सिंह रंधावा इस समय सिद्धू के पाले में हैं। वहीं विधायक अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग, सुरजीत सिंह धीमान, प्रीतम सिंह कोटभाई, कुलबीर सिंह जीरा और दविंदर सिंह गुबाया (सभी विधायक) भी सिद्धू के साथ हैं।

वहीं विधायक सतकार कौर गहिरी ने भी सिद्धू से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि अगर सिद्धू प्रदेश कांग्रेस के प्रधान बनते हैं तो पार्टी को फायदा होगा। जालंधर कैंट के विधायक परगट सिंह ने कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू एक बड़ा चेहरा हैं। अगर कांग्रेस उनके नेतृत्व में पंजाब में चुनाव लड़ती है तो इसका बड़ा फायदा पार्टी को मिलेगा। साथ ही कहा कि उन्हें हाईकमान का फैसला मंजूर होगा।

jagran

jagran

Source link

Bulandaawaj
Author: Bulandaawaj

Leave a Reply

Your email address will not be published.