विशेष संवाददाता, नई दिल्ली
दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार ने दिल्ली की केजरीवाल सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि दिल्लीवासी मॉनसून में होने वाले जलभराव और ट्रैफिक जाम से जूझने के लिए कई सालों तक तैयार रहें, क्योंकि 7 सालों तक शासन करने के बावजूद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के ड्रेनेज सिस्टम को सुधारने के लिए कुछ और सालों का समय मांगा है, जबकि हर साल मॉनसून की बारिश के बाद जलभराव के बाद केजरीवाल विश्व-स्तरीय ड्रेनेज सिस्टम बनाने की बात करते रहे हैं।

क्यों बारिश में हर बार डूब जाती है दिल्ली? सिर्फ साल बदलता है सड़कों की तस्वीर नहीं बदलती
अनिल कुमार ने केजरीवाल पर कटाक्ष करते हुए कि उन्हें कहा है कि दिल्ली का ड्रेनेज सिस्टम उन्हें विरासत में मिला है। शायद वह भूल रहे हैं कि कांग्रेस के शासन काल से आधे समय का शासन उनका भी हो गया है। अनिल ने कहा कि दिल्ली के ड्रेनेज सिस्टम को सुधारने के लिए आईआईटी दिल्ली को शीला दीक्षित सरकार ने 2012 में दिल्ली के ड्रेनेज सिस्टम पर अध्ययन करने के लिए एक कमिटी बनाई थी, जिसकी रिपोर्ट पर आजतक दिल्ली सरकार चुप क्यों बैठी है। अनिल ने कहा कि काम नहीं करने और दूसरों पर आरोप लगाने की केजरीवाल की यह नीति बन चुकी है, जबकि दिल्लीवासी यह जानते हैं कि दिल्ली में कांग्रेस की सरकार के समय ड्रेनेज सिस्टम ठीक-ठाक था। केजरीवाल ड्रेनेज सिस्टम के लिए बनाई एक्सपर्ट कमिटी की रिपोर्ट पर चुप क्यों है?

Delhi Rains: तजिंदर बग्गा ने दिल्ली में बीच सड़क की ‘राफ्टिंग’, बोले- केजरीवाल जी मौज कर दी
वहीं, अनिल कुमार ने डेंगू का मुद्दा उठाते हुए कहा कि पिछले कई दिनों से निकटवर्ती राज्यों में बच्चों में रहस्यमयी बुखार तेजी से फैल रहा है और दिल्ली में भी रहस्यमयी बुखार के कई मामले सामने आए हैं। कोविड के चलते विशेषज्ञों के अनुसार रहस्यमयी बुखार जिसका टेस्ट कराने के बाद डेंगू, मलेरिया दोनों टेस्ट पॉजिटिव आ रहे हैं। ऐसी चिंताजनक स्थिति में दिल्ली सरकार असंवेदनशील है। अनिल कुमार ने कहा कि चाचा नेहरू अस्पताल में रहस्यमयी बुखार के रोजाना मामले ओपीडी में आ रहे हैं। दिल्ली के सामान्य अस्पतालों की ओपीडी में 25 प्रतिशत बच्चों में वायरल बुखार के मामले सामने आ रहे हैं। बड़ी संख्या में बच्चे वायरल बुखार के कारण भर्ती हो रहे हें। ऐसे में आईसीयू बेड पूरी तरह भरे हुए हैं।

Source link

Bulandaawaj
Author: Bulandaawaj

Leave a Reply

Your email address will not be published.