विस, नई दिल्ली: विधानसभा में विपक्ष के नेता रामवीर सिंह बिधूड़ी और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व सांसद मनोज तिवारी ने दिल्ली सरकार पर राशन वितरण मामले में झूठ बोलने का आरोप लगाया है। साथ ही यह मांग की है कि जिस तरह केंद्र की मोदी सरकार दिल्ली के 72 लाख गरीबों को मुफ्त राशन उपलब्ध करा रही है, वैसे ही दिल्ली सरकार भी उन 60 लाख लोगों को मुफ्त राशन दे, जिनके पास राशन कार्ड नहीं है।

मिड-डे मील के ड्राई राशन में बच्चों को मिले कई किलो छोले, परेशान मां-बाप दूसरों को बांट रहे
रामवीर सिंह बिधूड़ी ने कहा कि दिल्ली में केजरीवाल सरकार ने आयुष्मान भारत योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, एक देश-एक राशन कार्ड योजना समेत किसानों के हित की भी कई योजाओं को लागू ही नहीं किया, जिससे दिल्ली की जनता केंद्र सरकार की इन योजनाओं के लाभ से अब तक वंचित है।

दिल्ली सरकार की घर-घर राशन योजना को केंद्र सरकार ने किया रिजेक्ट, मनीष सिसोदिया बोले- हमने तो प्रपोजल ही नहीं भेजा था
मनोज तिवारी ने कहा कि केंद्र सरकार खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत गरीबों को राशन देती है, इसलिए केंद्र को इस बारे में दिल्ली सरकार से कुछ भी जानने और पूछने का पूरा अधिकार है। दिल्ली में 60 लाख ऐसे लोग हैं, जिनके पास राशन कार्ड नहीं हैं, जबकि उन्होंने कार्ड बनवाने के लिए आवेदन कर रखे हैं। ऐसे तमाम लोगों के लिए केजरीवाल सरकार भारतीय खाद्य निगम के जरिए अलग से राशन खरीद सकती है।

केंद्र और दिल्ली के झगड़े में बिना राशन के जनता : कांग्रेस
दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार ने कहा है कि उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की यह घोषणा कि सरकार अब दिल्ली के गरीब और मजदूर वर्ग के लोगों को घर-घर राशन योजना के तहत मुफ्त राशन नहीं देगी, गैर जिम्मेदाराना है। अनिल कुमार ने कहा कि केजरीवाल सरकार की घर-घर राशन की घोषणा केवल लोगों की झूठी सहानूभूति पाने के लिए की गई। अगर नीयत साफ होती, तो वे घर-घर राशन योजना को राशन पीडीएस योजना के तहत अलग बजट में प्रावधान करके राशन खरीद कर जनता को मुफ्त राशन बांटते। इसमें केंद्र सरकार का कोई हस्तक्षेप नहीं होता, लेकिन सरकार लोगों को सुविधाएं देने के लिए गंभीर नहीं है।

bjp

बीजेपी की प्रेस वार्ता

Source link

Bulandaawaj
Author: Bulandaawaj

Leave a Reply

Your email address will not be published.