विशेष संवाददाता, नई दिल्ली
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली @2047 प्लैटफॉर्म लॉन्च किया है। यह प्लैटफॉर्म दिल्ली के विजन 2047 को पाने में इंडस्ट्री और विभिन्न संगठनों की साझेदारी बढ़ाने का एक मंच है। मुख्यमंत्री ने इस प्लैटफॉर्म को लॉन्च करने के मौके पर कहा कि हम ऐसी दिल्ली बनाना चाहते हैं, जहां गरीब से गरीब आदमी भी अच्छे से रह सके। दिल्ली को वैश्विक शहर की तरह विकसित करने के लिए समस्याओं की पहचान कर पूरी लिस्ट बनानी होगी और एक रोडमैप बनाकर तय समय सीमा में उसका समाधान निकालना होगा।

दिल्ली बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन से जुड़ेंगे 30 सरकारी स्कूल
मुख्यमंत्री ने दिल्ली को विश्वस्तरीय शहर बनाने की दिशा में कदम बढ़ाते हुए विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सीएसआर के सहयोग के लिए एक मंच ‘दिल्ली@2047’ की शुरुआत की। इस दौरान डीडीसी के उपाध्यक्ष जस्मीन शाह ने 2047 में हमारी दिल्ली कैसी होगी, उस पर विस्तार से जानकारी प्रस्तुत की। मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली देश की राजधानी है। पूरी दुनिया भर से लोग सबसे पहले दिल्ली आते हैं और फिर यहां से बाकी देश के अंदर जाते हैं। दुनिया भर के लोग दिल्ली के जरिए पूरे देश को देखते हैं। दिल्ली एक ऐसी जगह है, जो सबके लिए गर्व की बात है। हमें दिल्ली को एक ग्लोबल सिटी की तरह विकसित करना है। दिल्ली की सभी समस्याओं के बारे में पता लगाकर उसका समाधान करना है। 2047 में देश जब आजादी के 100 साल पूरे कर लेगा, तब दिल्ली को हमें कहां लेकर जाना है, उसका एक रोडमैप हम लोगों को तैयार करना है। बजट में भी इसी तरह का एक विजन रखा था ताकि उस दिशा में काम शुरू कर सकें।

सुंदरलाल बहुगुणा को भारत रत्न दिलाने की मुहिम, जानिए क्यों AAP के लिए अहम है यह मुद्दा

दिल्ली को वैश्विक शहर बनाने के लिए सभी समस्याओं की पहचान करनी होगी और एक समय सीमा में उसका समाधान निकालना होगा।

अरविंद केजरीवाल, मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने इस बार जब विधानसभा में रखा कि हम दिल्ली की प्रति व्यक्ति आय सिंगापुर के बराबर लेकर जाएंगे या मैं कहूं कि हम 2048 के ओलिंपिक के लिए बिड करेंगे। यह चीजें लंबे समय में मिलेंगी। लेकिन अगर मैं कहूं कि हम 24 घंटे दिल्ली में पानी देंगे, तो यह अगले एक- दो या तीन साल में हो जाना चाहिए। अगले विधानसभा चुनाव के पहले तो दिल्ली के अंदर 24 घंटे पानी मिलना ही चाहिए। पिछले पांच साल के हमारे अनुभव हैं, उसने यह दिखाया कि समाधान निकाले जा सकते हैं। सरकारी स्कूलों के बोर्ड नतीजे 99.97 फीसदी आए हैं और आज तक ऐसा नहीं हुआ था। स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी काफी उपलब्धियां हासिल की हैं। मोहल्ला क्लिनिक और पॉलीक्लिनिक का बड़ा नेटवर्क तैयार किया गया। दिल्ली में अब 24 घंटे बिजली आती है। आज 100 से ज्यादा सरकारी सर्विस ऐसी हैं, जो लोगों को घर पर मिलती है। सीएजी की पिछले साल रिपोर्ट आई है। उसमें लिखा है कि पूरे देश में दिल्ली सरकार इकलौती सरकार है, जो मुनाफे में चल रही है। हमने स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी बनाई है, ताकि हमारे खिलाड़ी ओलिंपिक और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ज्यादा मेडल ला सकें।

Source link

Bulandaawaj
Author: Bulandaawaj

Leave a Reply

Your email address will not be published.