विशेष संवाददाता, नई दिल्ली
दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष अनिल कुमार ने आप के विधायक अमानतुल्लाह खान और प्रकाश जरवाल के खिलाफ चीफ सेक्रेट्री रहे अंशु प्रकाश से मारपीट केस में आरोप तय होने पर उन्हें पार्टी से निष्कासित करने की मांग की।

दोषियों को बचाने का प्रयास कर रहे हैं केजरीवाल और सिसोदिया: बीजेपी
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि अरविंद केजरीवाल के घर पर मुख्य सचिव के साथ मारपीट के मामले में कोर्ट द्वारा अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया सहित 9 अन्य विधायकों को बरी करने से साफ हो जाता है कि बीजेपी और आम आदमी पार्टी में कोई न कोई सांठगांठ है। इसके चलते दिल्ली पुलिस ने मामले के तथ्यों को कोर्ट के समक्ष सही तरीके से नहीं रखा। उन्होंने कहा कि यह संभव नहीं है कि बिना मुख्यमंत्री के इशारे के मुख्यमंत्री निवास पर मुख्य सचिव के साथ विधायक मारपीट करें, इसलिए अपराध करने वाले से अधिक अपराध कराने वाला जिम्मेदार होता है। अनिल ने कहा कि जब कोर्ट ने दो विधायकों को आरोपित किया और घटना मुख्यमंत्री निवास पर अरविंद केजरीवाल के सामने हुई, ऐसे में नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए मुख्यमंत्री को अपने पद से तुरंत प्रभाव से इस्तीफा देना चाहिए।

मुख्‍य सचिव से मारपीट: केजरीवाल, सिसोदिया समेत 9 विधायक बरी, अमानतुल्‍लाह और जरवाल पर आरोप तय
अनिल ने कहा कि कोर्ट द्वारा आरोपित दोनों विधायकों पर पहली बार आपराधिक मामला दर्ज नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि दोषियों के खिलाफ आप को कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि उपमुख्यमंत्री द्वारा यह कहना कि आरोप झूठे हैं और षडयंत्र रचा गया यह संभव ही नहीं है। उन्होंने कहा कि घटना केजरीवाल के इशारे पर हुई और बीजेपी के साथ मिलीभगत के चलते ही मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री सहित 9 विधायकों को बरी किया गया।

Source link

Bulandaawaj
Author: Bulandaawaj

Leave a Reply

Your email address will not be published.