हाइलाइट्स:

  • एलजी की शक्तियां बढ़ाने वाले बिल को लेकर कजेरीवाल का बीजेपी पर निशाना
  • कहा- चुनी हुई दिल्ली सरकार की शक्तियां कम करना चाहती है बीजेपी
  • सिसोदिया बोले- बिल के अनुसार एलजी ही सरकार होगा

नई दिल्ली
दिल्ली में उपराज्यपाल की शक्तियों को बढ़ाने से संबंधित विधेयक को लेकर राजनीतिक घमासान तेज हो गया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को बीजेपी पर आरोप लगाया कि वह लोकसभा में एक नया विधेयक लाकर उनकी चुनी हुई सरकार की शक्तियों को बहुत कम करना चाहती है। केजरीवाल ने कहा कि यह विधेयक संविधान पीठ के फैसले के विपरीत है। डेप्युटी सीएम मनीष सिसोदिया ने भी बिल को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है।

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली (संशोधन) विधेयक 2021 को सोमवार को लोकसभा में पेश किया गया। इस विधेयक में दिल्ली के उपराज्यपाल (एलजी) को अधिक शक्तियां देने का प्रावधान रखा गया है। केजरीवाल ने ट्वीट, ‘दिल्ली के लोगों द्वारा खारिज किए जाने (विधानसभा में आठ सीटें और हाल के एमसीडी उपचुनाव में एक भी सीट न मिलने) के बाद बीजेपी आज लोकसभा में एक विधेयक के जरिए चुनी हुई सरकार की शक्तियों को काफी कम करना चाहती है। यह विधेयक संविधान पीठ के फैसले के विपरीत है। हम बीजेपी के असंवैधानिक और लोकतंत्र विरोधी कदम की कड़ी निंदा करते हैं।’

एक अन्य ट्वीट में मुख्यमंत्री ने कहा, ‘विधेयक कहता है- 1. दिल्ली के लिए सरकार का मतलब एलजी होगा, तो फिर चुनी हुई सरकार क्या करेगी?.. 2. सभी फाइलें एलजी के पास जाएंगी। यह संविधान पीठ के 4.7.18 के फैसले के खिलाफ है जो कहता है कि फाइलें एलजी को नहीं भेजी जाएंगी, चुनी हुई सरकार सभी फैसले करेगी और फैसले की प्रति एलजी को भेजी जाएगी।’
वहीं, दिल्ली के डेप्युटी सीएम मनीष सिसोदिया ने बिल को लेकर बीजेपी पर हमला करते हुए कहा, ‘बीजेपी आज संसद में नया कानून लेकर आई है, इसके अनुसार दिल्ली में उपराज्यपाल ही सरकार होंगे और मुख्यमंत्री, मंत्री को अपनी हर फ़ाईल LG के पास भेजनी होगी। चुनाव के पहले बीजेपी का घोषणापत्र कहता है कि दिल्ली को पूर्ण राज्य बनाएंगे और चुनाव जीतकर कहते हैं दिल्ली में LG ही सरकार होंगे।’

केंद्र सरकार संसद में दिल्ली के संबंध में असंवैधानिक और अलोकतांत्रिक बिल लेकर आई है। केंद्र सरकार GNCTD एक्ट में बदलाव करने के लिए एक संशोधन बिल लेकर आई है। इस बिल में लिखा है कि इसके आने के बाद दिल्ली सरकार का मतलब होगा उप राज्यपाल

मनीष सिसोदिया

दिल्ली में LG को और पावरफुल करने के प्रस्ताव को केंद्र की मंजूरी, केजरीवाल की बढ़ेगी टेंशन

उधर नैशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला भी इस बिल के खिलाफ आम आदमी पार्टी के समर्थन में आगे आए हैं। उन्होंने कहा, ‘आप के जम्मू-कश्मीर के विभाजन और उसका दर्जा कम किए जाने को समर्थन करने के बावजूद भी हम दिल्ली में चुनी हुई सरकार की शक्तियां कम करने की निंदा करते हैं। दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिए जाना चाहिए और सभी शक्तियां चुनी हुई सरकार के पास होनी चाहिए, ना कि एलजी के पास।’

ty

दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)

Source link

Bulandaawaj
Author: Bulandaawaj

Leave a Reply

Your email address will not be published.