एनबीटी ब्यूरो लखनऊ/अयोध्या: श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट पर जमीन खरीद में घोटाले का आरोप लगाते हुए आप सांसद संजय सिंह ने कहा है कि अयोध्या की इस जमीन की कीमत साढ़े पांच लाख रुपये प्रति सेकंड की दर से बढ़ी। जिस तेजी से जमीन की कीमत बढ़ी वह अपने आप में रेकॉर्ड है। अनिल मिश्र और ऋषिकेश उपाध्याय सुल्‍तान और रवि मोहन तिवारी की खरीद में गवाह थे। वहीं ट्रस्‍ट के बैनामे में भी गवाह बन गए। जो जमीन मंदिर ट्रस्‍ट ने खरीदी उसके एग्रीमेंट के लिए स्टॉम्प 5:11 मिनट पर खरीदा गया और रवि मोहन तिवारी ने जो जमीन हरीश पाठक से खरीदी उसके स्टॉम्प 5:22 मिनट पर खरीदे गए। आखिर ट्रस्‍ट ने स्टॉम्प पहले ही कैसे खरीद लिया। किसी भी ट्रस्‍ट में जमीन खरीद के लिए बोर्ड की मीटिंग करके प्रस्‍ताव पास किया जाता है। ऐसे में सवाल है कि मात्र पांच मिनट में कैसे ट्रस्‍ट ने प्रस्‍ताव पास करके जमीन खरीद ली। आप सांसद ने प्रधानमंत्री से मांग है कि पूरे मामले की ईडी और सीबीआई से जांच कराई जाए ताकि सच सामने आए।

Ram Mandir: अयोध्या में ट्रस्ट के नाम पर घोटाले से चंपत राय का इनकार, कहा-राजनीति से प्रेरित हैं आरोप
ऐसी हुई जमीन की बिक्री
जब मंदिर परिसर के आस-पास के मंदिरों को गिराने और शिफ्ट करने का काम शुरू हुआ, उसी दौरान इसके आस-पास की जमीन खरीदने के साथ पुराने करीब आधा दर्जन मंदिरों को गिराकर उसे भी परिसर में शामिल कर लिया गया। आरोपित जमीन की खरीद फरोख्त मामले से जुड़े एक शख्स ने बताया कि अयोध्या के बाग विलैसी में स्थित 180 बिस्वा जमीन हरीश पाठक व कुसुम पाठक की थी। इसे उन्होंने सुल्तान अंसारी, रवि मोहन तिवारी, इच्छा राम, मनीष कुमार, रवींद्र कुमार, बलराम यादव व अन्य तीन के नाम 2019 में रजिस्टर्ड एग्रीमेंट कर दिया था। इस जमीन का सौदा 26.50 करोड़ रुपये में तय हुआ। इसकी सरकारी मालियत करीब 11 करोड़ रुपये आंकी गई थी। 2.80 करोड़ रुपये हरीश पाठक व कुसुम पाठक के खाते में ट्रांसफर कर 80 बिस्वा जमीन की रजिस्ट्री करवाई गई। बाकी 100 बिस्वा जमीन एग्रीमेंट धारकों ने अपनी सहमति से दो लोगों के नाम लिख दिया जिनसे राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने 18.50 करोड़ में रजिस्टर्ड एग्रीमेंट करवा लिया है।

दिसंबर में शुरू होगा राम मंदिर में पत्थरों का काम, भव्य रूप में दिखेगी राम नगरी
हम पर तो गांधी की हत्या के भी आरोप लगे हैं: चंपत
श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि हम पर तो महात्मा गांधी की हत्या के भी आरोप लगे हैं। हम आरोपों से नहीं डरते जो आरोप लगे हैं उसकी जांच करूंगा। वहीं बैनामे व मंदिर ट्रस्ट के रजिस्टर्ड एग्रीमेंट में गवाह बने अयोध्या नगर निगम के मेयर ऋषिकेश उपाध्याय का कहना है कि मैं तो तमाम मंदिरों के प्रॉपर्टी सेल में गवाह हैं, लेकिन डील विक्रेता और क्रेता के बीच होती है। उससे गवाह का कोई लेना देना नहीं। उधर हनुमान गढ़ी के महंत राजू दास ने आप सांसद के आरोपों की उच्च स्तरीय जांच की मांग की है। महंत राजूदास ने कहा है कि अगर कोई दोषी पाया जाए तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए, लेकिन अगर आरोप झूठे पाए जाते हैं तो मैं संजय सिंह के खिलाफ 50 करोड़ के मानहानि का दावा करूंगा।

संजय सिंह

संजय सिंह (फाइल फोटो)

Source link

Bulandaawaj
Author: Bulandaawaj

Leave a Reply

Your email address will not be published.