नई दिल्लीविधानसभा बजट सत्र के दौरान शुक्रवार को नियम-280 के तहत विधायकों ने अपने अपने क्षेत्र की समस्याओं को उठाया। जिसमें सड़कों पर अतिक्रमण से लेकर पानी की किल्लत की समस्या सदन में रखी गई। शुक्रवार को जिन विधायकों को शुरू में अपनी बात रखने का मौका मिला था, उनमें से कई उपस्थित नहीं थे। इस पर विधानसभा अध्यक्ष ने नाराजगी भी जाहिर की, लेकिन बाद में उन्हें भी मौका दिया गया और एक घंटे के दौरान कुल 17 मेंबरों ने अपनी बातें सदन में रखी, जिसकी विधानसभा अध्यक्ष राम निवास गोयल ने प्रशंसा भी की।

सबसे पहले विधायक मुकेश कुमार अहलावत ने अपने क्षेत्र के हुए अतिक्रमण की समस्या उठाई। विधायक ने चिंता जाहिर करते हुए इसे गोरखधंधा बताते हुए कहा कि इसमें शामिल लोगों की इतनी मिलीभगत है कि इनके द्वारा अतिक्रमण किए गए जगह पर बिजली और पानी के मीटर लग जाते हैं। इन्हें पावर ऑफ अटॉर्नी मिल जाती है, आखिर कैसे? वहीं राजकुमारी ढिल्लन ने अपने इलाके की झुग्गी बस्ती के अंदर से बहने वाले एक नाले से होने वाली समस्याओं के बारे में बताया। इसे ठीक कराने की अपील की। वहीं, विधायक विरेंद्र सिंह ने पूर्व सैनिकों के लिए दिल्ली में जिला सैनिक बोर्ड बनाने की मांग की।

बीजेपी विधायक ओपी शर्मा ने अपने इलाके में अब तक एक भी सीसीटीवी कैमरे नहीं लगने की समस्या के बारे में बताया। जबकि आप विधायक अजय दत्त ने आंबेडकर अस्पताल के पास के एक पार्क की जमीन का मुद्दा उठाया, जो डीडीए की जमीन है, उसे अस्पताल को देने की मांग उठाई। ताकि यहां पर डॉक्टरों के लिए हॉस्टल और पार्किंग बन सके। लेकिन, इस पार्क में डीडीए द्वारा बारात घर बनाए जाने की बात हो रही है, जिस पर उन्होंने आपत्ति जताई। विधायक नरेश यादव ने साकेत के फुटपाथ पर हुए अतिक्रमण के बारे में बताया।

अखिलेश त्रिपाठी ने अपने इलाके में पानी की किल्लत पर सवाल उठाते हुए हरियाणा सरकार को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने अपने इलाके में 2 बूस्टर पंप लगाने की अनुमति की मांग की। वहीं, विधायक संजीव झा ने राशन कार्ड नहीं बनने का मुद्दा सामने रखा। उन्होंने कहा कि उनके इलाके के काफी लोगों के राशन कार्ड पेंडिंग हैं और पिछले 3 महीने में सिर्फ 15 बने हैं। इंस्पेक्टर की कमी का भी मुद्दा उठाया।

रमजान और बैसाखी से पहले साफ सफाई की मांग

विधायक प्रह्लाद सिंह साहनी ने रमजान से पहले दिल्ली के सभी मुस्लिम इलाकों में साफ-सफाई और पानी के बेहतर इंतजाम करने की मांग की। साथ ही उन्होंने कहा कि रमजान के अलावा बैसाखी भी आ रही है, इसके लिए भी तैयारी की जाए और साफ सफाई की जाए। जरूरत पड़े तो मुस्लिम बस्ती का दौरा किया जाए और उनकी जरूरत के अनुसार काम किया जाए। वहीं, प्रमिला टोकस ने आरटीआर फ्लाईओवर के ऊपर ध्वनि नियंत्रण शीट लगाने की मांग की और वहां पर एक फुटओवर ब्रिज बनाने की मांग उठाई, ताकि लोगों को रोड क्रॉस करने में दिक्कत ना हो। वहीं, भावना गौड़ ने पालम रेलवे स्टेशन के पास अंडरपास बनाने की मांग की। इस दौरान धर्मपाल लाकड़ा ने दिल्ली के किसानों को एमएसपी देने की मांग उठाई, उन्होंने कहा कि अप्रैल में जब रबी फसल बेची जाए तो किसानों को एमएसपी मिले, ऐसा कुछ प्रबंधन किया जाए।

Source link

Bulandaawaj
Author: Bulandaawaj

Leave a Reply

Your email address will not be published.